Sushma Tiwari

SushmaTiwari

https://www.paperwiff.com/SushmaTiwari

I'm a Writer from Mumbai. I'm a published Co author for many books. If I can bring some change in society through my writing, then I would consider myself lucky.

Sushma Tiwari
Sushma Tiwari 15 Aug, 2021 | 1 min read

मेरी माटी से लिट्टी - चोखा

उत्तर भारत का प्रसिद्ध लिट्टी चोखा, मेरे लेख से आपके प्लेट तक

#Uttarpradesh #North Indian food #Bihar #Food&culture

Reactions 0
Comments 1
640
Sushma Tiwari
Sushma Tiwari 06 Jun, 2021 | 1 min read

विश्व पर्यावरण दिवस - एक दिन का त्यौहार?

विश्व पर्यावरण दिवस पर हल्का फुल्का व्यंगात्मक आलेख, उतना ही हल्का जितनी हल्की हमारी कोशिशे है पर्यावरण संरक्षण की।

#World environment day #Save forests

Reactions 1
Comments 0
100
Sushma Tiwari
Sushma Tiwari 26 Apr, 2021 | 1 min read

काग़ज़ पर शहर

कई परियोजनाएं, कई विकास सिर्फ सरकारी काग़जों पर होते हैं, उन्हें नग्न आँखों द्वारा देखना दुर्लभ है.।

##paperwiff short stories ##summer fest short story challenge #Short story

Reactions 2
Comments 1
117
Sushma Tiwari
Sushma Tiwari 26 Apr, 2021 | 1 min read

आखिरी मौका!

सौरमंडल का एकमात्र ग्रह जिसे जीवन का वरदान मिला और हम मनुष्य इस ग्रह के लिए उसे अभिशाप बनाने पर तुले हुए है। कब समझेंगे हम कि ये आखिरी मौका है आँखे खोलने का!

##paperwiff short stories ##summer fest short story challenge #Short story

Reactions 1
Comments 1
92
Sushma Tiwari
Sushma Tiwari 19 Apr, 2021 | 1 min read

साँसों की कीमत

साँसे अनमोल है, आक्सीजन सीमित है। एक काल्पनिक कथा पर हकीकत दूर नहीं

Reactions 3
Comments 3
153
Sushma Tiwari
Sushma Tiwari 21 Mar, 2021 | 1 min read

हौसलों का पुल

विश्व कविता दिवस

#World poetry day

Reactions 0
Comments 1
103
Sushma Tiwari
Sushma Tiwari 25 Feb, 2021 | 1 min read

तू जो है तो..

जिंदगी नाम खुल कर जीने का

##1000 poems ##1000 poems on Paperwiff

Reactions 0
Comments 0
111
Sushma Tiwari
Sushma Tiwari 25 Feb, 2021 | 1 min read

अन्नदाता

माटी से अन्न उगाने वाला माटी के मोल रह जाता है.. कोई मोल समझ पाया है?

##1000 poems ##1000 poems on Paperwiff

Reactions 0
Comments 0
183
Sushma Tiwari
Sushma Tiwari 25 Feb, 2021 | 1 min read

गृहस्थी की गाड़ी

गृहस्थी दो पहियों की गाड़ी है.. है ना!

##1000 poems ##1000 poems on Paperwiff

Reactions 0
Comments 0
101
Sushma Tiwari
Sushma Tiwari 24 Feb, 2021 | 1 min read

क्या तुम्हें स्वीकार है?

उन स्त्रियों की आवाज़ जो अब भी पितृसत्ता से व्यथित हो दुख झेल रही हैं

##1000 poems ##1000 poems on Paperwiff

Reactions 0
Comments 0
94