ख्वाहिश

जिंदगी मर रही रूह इंसानियत की

Originally published in hi
Reactions 0
15
Surabhi sharma
Surabhi sharma 13 Oct, 2021 | 1 min read

गगन में जो ये उड़ते परिंदे हैं

ये भी धरती के ही बाशिंदे हैं|


है जो फक्र हमें इतना इंसान होने का 

कि हम तो खुदा के अव्वल कारिंदे हैं |


खाक में फिर यूँ मिला रहे जो आशियाना इनका

क्या अपनी ख्वाहिशों के आगे हम इतने शर्मिंदे है|


'जिंदगी 'मर रही रूह इंसानियत की

जिस्म में अब क्या सिर्फ इंसान जिंदे हैं |


सुरभि शर्मा

0 likes

Published By

Surabhi sharma

surabhisharma

Comments

Appreciate the author by telling what you feel about the post 💓

Please Login or Create a free account to comment.