धन - लक्ष्मी

छोटी-छोटी बचत हमें बड़ा फायदा पहुंचाती है

Originally published in hi
Reactions 0
14
Prem Bajaj
Prem Bajaj 18 Nov, 2020 | 1 min read

रीटा के ससुर को अचानक रात को छाती में दर्द हुआ , डाक्टर के पास जाने पर पता चला कि सिरियस हार्ट अटैक है , और सर्जरी होगी वो भी दिल्ली जाना होगा , जिस के लिए लगभग तीन लाख रूपए का खर्च होगा ।

रीटा के पति अकेले बेटे हैं किसी और का सहारा भी नहीं और उन दिनों लेबर की स्ट्राइक के चलते काम पे भी काफी बुरा असर पड़ रहा था ।

सर्जरी भी जरूरी , उनकी जान को ख़तरा था , लेकिन इतने पैसे कहां से आए , रीटा के पति राहुल  ने डाक्टर को तो सर्जरी के लिए कह दिया लेकिन बहुत परेशान थे ।

बोले किसी दोस्त से करता हूं बात अगर कोई उधार दे दे तो , रीटा की सास बोली मेरा मंगलसूत्र सैट के अलावा कोई गहना नहीं मेरे पास , वहीं ले जाकर बेच दो , सुहाग ज़िन्दा रहे , वहीं असली मंगलसूत्र है।

रीटा ने उसी समय अपने पति के हाथ पर एक एफ. डी. दो लाख की और अपनी पासबुक जिसमें लगभग सत्तर- अस्सी हजार रुपए थे , पकड़ा दी।

रीटा का पति और सास उसे बड़ी हैरानी से देख रहे थे कि इतने पैसे वो कहां से लाई ?

वो बस इतना कह पाई कि "" ये मेरी बचत है ।

मम्मी जी ने उस समय उसे गले से लगा लिया, और बोली बेटी मुझे क्षमा करना , तुम हर महीने जब भी पहली तारीख को बजट बनाने लगती थी तो हर बार मैं तुम्हें यही बोलती थी कि ना जाने ये क्या बही- खाते लेकर बैठ जाती है ,इससे क्या होगा , जो है खर्च करो हिसाब- किताब क्या लिखना ।

और तुम हर बार यही कहती ... मम्मी जी बजट बनाकर चलना चाहिए ,और आने वाले बुरे या अच्छे समय के लिए कुछ ना कुछ सेविंग अवश्य होनी चाहिए , तुम सही कहती थी।

तुम तो सचमुच मेरी आज धन- लक्ष्मी बन गई।

आज से मैं तुम्हें धन- लक्ष्मी ही कहूंगी।

आप भी ऐसी छोटी छोटी बचत करके धन- लक्ष्मी बन सकती है ।

0 likes

Published By

Prem Bajaj

prembajaj1

Comments

Appreciate the author by telling what you feel about the post 💓

Please Login or Create a free account to comment.