रिश्तों की अहमियत

रिशतो की अहमियत को समझें

Originally published in hi
Reactions 0
9
Prem Bajaj
Prem Bajaj 21 Nov, 2020 | 1 min read


मात-पिता के रिश्ते की जो ना जाने कद्र वो कुलांगार है ,

सच्चा रिश्ता वो होता है जो रिश्तों की माला करता कण्ठागार है ,

रिश्तों को रखें उलझाए हर पल जो वो रिश्तों का कसूरवार है ,

कभी हद से बढ़ जाती उलझन रिश्तों में तो लगता कारागार है।


रिश्तों को निभाना होता है दिल से यहां ना कोई रिश्तों का कामगार है ,

जब कूट- कूट भरा होता है प्यार- विश्वास वहां दिल बनता रिश्तों का ओगार है ,

ना उलझनें देना कभी रिश्तों को , ये रिश्ते खुशी के तलबगार है,

जो सींचे प्यार के पानी से रिश्ते के पौधे वो ही करूणागार है ।


जो ना समझो पाया अहमियत रिश्तों की उसका जीवन कगार है,

वो रहता ताउम्र जिंदगी से शर्मसार है,

इन प्यारे-प्यारे रिश्तों से मुंह मोड़ना तो बेकार है,

परवरदिगार ने बक्शे हैं ये प्यारे रिश्ते इन्हें निभाने वाले हम तो बस किरदार हैं।


0 likes

Published By

Prem Bajaj

prembajaj1

Comments

Appreciate the author by telling what you feel about the post 💓

Please Login or Create a free account to comment.